Thyroid Hormone in Hindi, थायराइड के लक्षण व कारण

Thyroid Hormone हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही आवश्यक रसायन है. इसमें जड़ा सी असंतुलन अनेक रोगों का कारण बन सकता है. दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम थायरॉइड के बारे में विस्तार से बताने जा रहे है. जिसको जानना हमारे स्वास्थ्य की दृस्टि से बहुत ही जरुरी है. इससे हम अपनी और अपने जानने वालो की स्वास्थ की रक्षा कर सकेंगे. तो चलिए शुरू करते है.

Contents show

थायरॉइड क्या है? (What is Thyroid in Hindi)

थायरॉइड ग्रंथि Thyroid Gland ट्रेकिया के सामने निचले सर्वाइकल और प्रथम थोरैसिक वर्टिब्री के स्तर पर स्थित रहित है. दूसरे शब्दो में कहें तो, यह गर्दन के सामने मुख्य श्वास नलिका के चारो और लिपटी रहती है. थायरॉइड ग्रंथि दो खण्डों की बनी होती है, जो लैरिंग्स एवं ट्रेकिया के मध्य जक्शन के दोनों तरफ स्तिथ रहते है.

यह ग्रंथि इस्थमस द्वारा आपस में जुड़े भी रहते है. यह एक अत्यधिक वाहिकीय ग्रंथि (Vascular Gland) होती है. जिसका वजन लगभग 25 ग्राम होता है, जो चरों ओर एक तंतुमय कैप्सूल से घिरी रहती है.

थायरॉइड ग्रंथि कोशिकाएँ (Thyroid Gland Cell)

Thyroid Gland दो तरह की कोशिकाओं– फॉलिक्यूलर तथा पैराफॉलिक्यूलर कोशिकाओं (C Cell) से निर्मित होती है. फॉलिक्यूलर कोशिकाएं थाइरॉक्सिन (T4) एवं ट्राईआइडोथाइरोनिन (T3) निर्माण व स्रावण करती रहती है. पैराफॉलिक्यूलर कोशिकाएं कैलीस्टोनिन हार्मोन का निर्माण व स्रावण करती रहती है.

थायरॉइड ग्रंथि हार्मोन के कार्य (Functions of Thyroid Gland Hormone)

थाइरॉक्सिन (T4) एवं ट्राईआइडोथाइरोनिन (T3) की रक्त में उपस्थित मात्रा ही हमारे चयापचय की गति निर्धारित करती है. यह तंत्रिका ऊतकों की वृद्धि एवं विकास को नियंत्रित करते है. मूत्र के निर्माण को बढ़ाते है. प्रोटीन के विभाजन और कोशिकाओं के द्वारा ग्लूकोज के अन्तग्रहण को बढ़ाते है. कैलीस्टोनिन हार्मोन रक्त में कैल्शियम सांद्रता को कम करते है.

और पढ़े: डायबिटीज के लिए DIP Diet in Hindi

थायरॉइड हार्मोन की न्यूनता (Hypo Secretion of Thyroid Hormone)

भोजन या जल में आयोडीन की कमी (Iodine Deficiency) हो जाने से थायरॉइड हार्मोन उपयुक्त मात्रा में नहीं बन पाते है. जिससे TSH का स्रावण बढ़ जाता है. जिससे गलगण्ड या घेंघा (Goiter) रोग हो जाता है.

थायरॉइड हार्मोन की अधिकता (Hyper Secretion of Thyroid Hormone)

इसमें हार्मोन की अधिक मात्रा में Secretion होता है. जिससे Hyperthyroidism की स्थिति उत्पन्न हो जाता है. जिसमें प्रायः नेत्रोंत्संधी गलगण्ड (Exopthalmic Goitre) हो जाती है.

थायरॉइड रोग (Thyroid Disease in Hindi)

Thyroid Disease को आप दो भागों में बांट सकते है जो इस प्रकार है-

हाइपर-थाइरॉडिज्म (Hyperthyroidism Disease in Hindi)

इस रोग में Thyroid द्वारा रसायनों का स्रवण अत्यधिक मात्रा में होने लगता है. थायरॉइड द्वारा अधिक मात्रा में हार्मोन बनाने की स्थिति (Excessive thyroid hormone production) को हाइपर-थाइरॉडिज्म Hyperthyroidism कहते है.

और पढ़े: ब्लैक फंगस से कैसे बचे?

हाइपर-थाइरॉडिज्म होने के कारण (Hyperthyroidism Condition in Hindi)

इस समस्या के अनेक कारण हो सकते है. सबसे मुख्य प्रकारान्तर ‘ग्रेव्स डिसीज’ (Graves disease) है. यह रोग पुरुषो की अपेक्षा महिलाओं में अधिक पाया जाता है. जिनकी उम्र लगभग 30 से 50 के बीच होती है. इस रोग में चयापचय की प्रक्रिया अत्यधिक बढ़ जाती है. जिससे इस रोग के प्रभाव सभी तंत्रों पर पड़ता है.

हाइपर-थाइरॉडिज्म के लक्षण (Symptoms of Hyperthyroidism in Hindi)

Hyperthyroidism के लक्षण निम्न प्रकार के होते है-

  • ऊर्जा का क्षय अधिक होना.
  • ज्यादा भूख का लगना.
  • व्यक्ति का दुबला होते जाना व वजन का घटना.
  • मांसपेशियों की अतिकार्यशीलता से हाथ पैर का कापना.
  • मानसिक अस्थिरता.
  • क्रोध, चिड़चिड़ापन एवं उद्विग्नता.
  • हिस्टीरिया या विक्षिप्तता के दौरे पड़ना.
  • ह्रदय की धड़कन एवं नाड़ी की गति का बढ़ना, श्वास उथली और तेज होना.
  • दस्त आना, अत्यधिक गर्मी का लगना, पसीना आना.
  • मासिक धर्म का अनियमित हो जाना.
  • आँखों का बाहर उभरी हुई प्रतीत होना.
  • थकान एवं शक्तिहीनता प्रतीत होने के बावजूद भी चलने-फिरने बात करने या काम करने को विवश होना.
  • हमेशा कुड़बुड़ाते रहना.
  • छोटी छोटी बातों पर हंगामा खड़ा कर देना.
  • अपने को विरोधभासी परिस्थिति में पाना आदि लक्षण पाए जाते है.

और पढ़े: Cell Kya Hai कोशिका की संरचना कैसे होती है?

हाइपर-थाइरॉडिज्म के लिए सुझाव (Advice for Hyperthyroidism in Hindi)

इसमें मुख्य रूप से रोगी को अधिक मात्रा में प्रोटीन एवं विटामिन देना चाहिए. विशेष रूप से बी-कॉम्प्लेक्स का सेवन करना चाहिए जो पाचन प्रक्रिया में सहायक होते है.

हाइपो-थाइरॉडिज्म (Hypothyroidism Disease in Hindi)

Hypothyroidism Disease हाइपर-थाइरॉडिज्म की विपरीत अवस्था है. जिसमे हारमोन्स का संश्लेषण अल्प या अनुपस्थित हो जाता है. दूसर शब्दो में बोले तो थायरॉइड द्वारा कम हारमोन्स बनाने की प्रक्रिया (Low production of thyroid hormone) को हाइपो-थाइरॉडिज्म कहते है. इस हारमोन्स मंदता को वयस्कों में ‘मिक्सिडिमा’ कहते है.

अगर यह समस्या किसी को जन्म के समय से ही हो तो क्रेटिनिज्म कहते है. इसके कारण शरीर के नार्मल मेटाबॉलिज्म पर दुष्प्रभाव पड़ता है. जिससे दिमाग के सेल पर भी काफी बुरा असर होता है. व्यक्ति की दिमागी हालत लगातार खराब होती जाती है. बच्चों के मेंटल रिटार्डेशन का भी यह एक मुख्य कारण है.

हाइपो-थाइरॉडिज्म के कारण (Condition of Hypothyroidism in Hindi)

इसका सबसे प्रमुख कारण शल्य क्रिया या रेडियोधर्मी आयोडीन द्वारा थायरॉइड ग्रंथि का विनाश है.

यह रोग बिना किसी प्रत्यक्ष कारण के भी हो सकता है. लेकिन ऐसा बहुत कम होता है.

हाइपो-थाइरॉडिज्म के लक्षण (Symptoms of Hypothyroidism in Hindi)

Hypothyroidism के लक्षण निम्न प्रकार के होते है-

  • कमजोरी, सुस्ती, एवं भावशून्यता के कारण अपनी चिंता का न होना.
  • मानसिक एवं शारीरिक क्रियाओं का धीमापन होना.
  • कब्ज, थकावट, एवं पेशीय दर्द का होना.
  • भूख का न लगना, वजन में वृद्धि होना.
  • शरीर में सूजन (Thyroid Swelling) हो दबाने से दबती ना हो.
  • सुखी त्वचा, कड़े बाल एवं आवाज में भारीपन का होना.
  • स्मृतिक्षीणता एवं मासिक धर्म की अनियमिता का होना आदि प्रमुख लक्षण होते है.

और पढ़े: DIP Diet Plan in Hindi 

हाइपो-थाइरॉडिज्म के लिए सुझाव (Tips for Hypothyroidism in Hindi)

Hypothyroidism में अच्छे न्यूट्रीशन से भरपूर डाइट लेना चाहिए. टाईरोजाइन हार्मोन, आयोडीन, विटामिन ए, बी, सी, और ई से भरपूर आहार लेना चाहिए.

थायरॉइड रोग का इलाज (Treatments of Thyroid in Hindi)

आधुनिक चिकित्सा प्रणाली में थायरॉइड रोग इलाज निम्न प्रकार से किया जाता है.

शल्य क्रिया द्वारा Thyroid surgery (Thyroidectomy) for Gland 

इसमें डॉक्टर शल्य क्रिया द्वारा thyroid gland के कुछ या सभी part को बाहर निकाल देता है. Thyroidectomy तभी की जाती है, जब किसी को thyroid cancer, goiter या hyperthyroidism होती है.

स्रवणों का संश्लेषण रोकने की दवा (Antithyroid medications for Thyroid Treatments)

ये दवाईया (Antithyroid medications) थायराइड हार्मोन के अधिक उत्पादन (thyroid hormone overproduction) को कम कर देती है.जिससे Hyperthyroidism में कुछ हद तक राहत मिल जाती है.

रेडियोधर्मी आयोडीन (Use of Radioactive Iodine in Thyroid Operation)

Radioactive Iodine का इस्तेमाल थायरॉयड ग्रंथि का परीक्षण करने अथवा अति सक्रिय थायरॉयड ग्रंथि (Overactice Thyroied Gland) को नष्ट करने के लिए किया जाता है.

बाहरी विकिरण (External radiation for thyroid gland destroy)

डॉक्टरों द्वारा इसका इस्तेमाल thyroid cancer cells को मारने के लिए किया जाता है.  इसमें विकिरण किरणों को Thyroied Gland पर बार बार डाला जाता है. जिससे थायराइड कैंसर कोशिकाएं नष्ट हो जाती है.

थायराइड हारमोन की कृत्रिम औषधि (Thyroid hormone pills)

कृत्रिम औषधि के सेवन से चमत्कारी लाभ प्राप्त होते है. परन्तु कृत्रिम औषधि के सेवन से ग्रंथि की बची-खुची संश्लेषण क्षमता भी नष्ट हो जाती है. तब रोगी के पास आजीवन थायराइड हारमोन की कृत्रिम औषधि पर निर्भर रहना पड़ता है.

इसके अलावा उसके पास कोई दूसरा विकल्प नहीं बचता है.

7 thoughts on “Thyroid Hormone in Hindi, थायराइड के लक्षण व कारण”

Leave a Comment